भारतीय कप्तान विराट कोहली (virat Kohli) पिछले एक साल से शतक बनाने के लिए तरस रहे हैं. कोहली (virat Kohli) के बल्ले से आखिरी बार नवंबर 2019 में बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट में शतक निकला था. इसके बाद से वह क्रिकेट के किसी भी फॉर्मेट में शतक नहीं लगा पाए हैं. पिछले एक साल से विराट कोहली टेस्ट, वनडे और टी-20 में कुल 853 रन ही बना पाए हैं. कोहली ने पिछली 7 टेस्ट पारियों में एक अर्धशतक समेत सिर्फ 127 रन बनाए हैं.

                                   

फैंस को उम्मीद थी कि जैसे अंग्रेज कप्तान जो रूट (Joe Root) ने दोहरा शतक लगाया है, ठीक वैसे ही टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली भी इंग्लैंड के खिलाफ बड़ी पारी खेलेंगे, लेकिन विराट कोहली चेन्नई टेस्ट की पहली पारी में महज 11 रन बनाकर चलते बने. विराट कोहली की फॉर्म को लेकर काफी सवाल उठ रहे हैं. 

पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने विराट कोहली का बचाव किया है. गावस्कर के मुताबिक दबाव में कोहली का प्रदर्शन और भी बेहतर होता है और वह जल्द ही कोई बड़ी पारी खेलेंगे. गावस्कर ने स्टार नेटवर्क से कहा, 'जब आप नंबर चार पर बल्लेबाजी करने उतरे हैं तो स्कोर 200/2 रहता है. ऐसे में आप सोचते हैं कि बल्लेबाजी करना आसान है. वह अब जानते हैं कि बल्लेबाजी करना आसान नहीं है और उन्हें इस पर ध्यान लगाना होगा.' 

गावस्कर ने कहा,  'मैं समझता हूं कि वह एक बड़ी पारी खेलने के करीब हैं. पिछले साल ऐसा पहली बार हुआ था, जब उनके बल्ले से किसी भी फॉर्मेट में शतक नहीं आया था. इससे पहले लगातार 7-8 सालों से कोहली के बल्ले से पांच-छह शतक देखने को मिलते थे. मुझे पता है कि पिछले साल कोरोना महामारी से क्रिकेट प्रभावित हुआ था, लेकिन कोहली के बल्ले से शतक नहीं आना काफी दुर्लभ संयोग था. मुझे उम्मीद है कि वह 2021 में इसे बदलना चाहेंगे.'